Archive

Archive for the ‘Naat’ Category

Naat From Muhammad Ali Zahoori

February 6, 2010 1 comment

कख सवाद न मिसरी अंदर, खंडा वि चख दिथियाँ (dithiyan )
पर एना सारियां चीजां नालों गलां सज्जन दियां मिठिया |
पर ओना सारियां चीजां नालों लबा सज्जन दियां मिठिया |
सुपने दे विच मिलया माहि ते मैं गल विच पा लईआं बावाँ,
डर दी मारी आख न खोलां, किते फेर विच्र्ड न जावां |
आन बसो मोरे नयनन मैं, मैं अखियाँ बंद कर लूँ,
न मैं देखू गेर को, न मैं तोहे देखन दूँ |
कजरा लागे किरकरो, मेरी आँखों से गिरता जाये
जिन नयनन मैं पिया बसे वहां दूजा कौन समाये,
मैं गल विच पा लईआं बावा,
औ डर दी मारी आख न खोलां, किते फेर विच्र्ड न जावां |
ते हिज्र तेरा जद पानी मंगे, ते मैं खू नयेना दे गेरा,
दिल चाहोंदा है तेनु सामने बिठा के अज दर्द पुराने छेर्रा
यार जीना दे विचड जावन ओ क्यों रोवन थोडा,
हर शे नालो जालम यारो जिस दा नाम विचोड़ा |
जीतन जीतन हर कोई खेड़े, तू हारान खेल फकीरा,
जीतन दा मूल कोडी पेंदा हारान दा मूल हीरा
(मियां साब दे कलाम दी तां कोई इन्तहा ही नहीं
और जीना वि पर्ददे जाओ )

Categories: Naat